बुधवार, 19 अक्तूबर 2011

इटावा में स्वामी रामदेव ने की प्रेस वार्ता, कहा केजरीवाल पर हमला सौ प्रतिशत प्रायोजित - शशांक पटेल की रिपोर्ट

इटावा योग गुरू बाबा रामदेव ने आज प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि अरविन्द केजरी बाल पर हमला सौ प्रतिशत प्रायोजित था अभी लात घूसों से शुरूआत हुई है कल को अगर गोलियां चलती है तो समाज सेवा में लगे लोगों पर बहुत बड़ा पाप होगा। योग गुरू ने uttar प्रदेश main आगामी विधानसभा और लोकसभा के चुनाव में बड़ी जनसभा और आन्दोलन का आवहन किया। उन्होनें कहा कि हम लोगों से कहेगे कि जिन लोगों का भ्रष्टाचार पर रूख साफ नहीं उन्हें वोट नहीं दे। उसका परिणाम यह होगा कि एक भी भ्रष्ट व्यक्ति विधानसभा और लोकसभा में नहीं पहुँच पायेगा। राहुल गांधी के दौरे पर बोलते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि दौरा करने से वोट नहीं मिलेगा जब तक केन्द्र सरकार, राहुल गाधी कालेधन और भ्रष्टाचार पर अपना रूख स्पष्ट नहीं करेगे तब तक कितने ही दौरे कर ले तब तक कुछ हासिल नहीं होगा। योग गुरू ने सुबह 5 बजे से 7.30 बजे तक हजारों लोगों को योग का प्रशिक्षण दिया और प्रेस से मुखातिब हुए।
योग गुरू की सेहत का राज
इटावा। योग गुरू बाबा रामदेव की सेहत के पीछे उनकी दैनिक क्रियाओं का विशेष महत्व है। बाबा बीते तकरीबन 13 वर्षों से अन्य त्यागे हुए हैं। वह खाने में मौसमी उबली सब्जियां व फलों का सेवन करते हैं।
ख्याति प्राप्त योग गुरू बाबा रामदेव के आगमन को लेकर उनके खानपान की विशेष व्यवस्था की गयी है। इटावा प्रवास के दौरान भी बाबा अपने खाने में उबली हुई लौकी, तोरई, कच्चा केला, केले की सब्जी, कच्चा पपीता, उबला हुआ पपीता के साथ अमरूद, केला, पपीता, सेब के साथ मौसमी फलों का सेवन करेंगे। बाबा खाने के बाद एक गिलास दूध नित्य की भांति लेंगे। वह पीने के लिए शुद्ध व सादा उबला हुआ पानी सेवन करते हैं। उनके खाने-पीने की व्यवस्था उनकी दिनचर्या के अनुसार की गयी है।
बाबा रामदेव रात 11 बजे तक अपने शिष्यों, शुभचिंतकों से मुलाकात करने के बाद विश्राम करते हैं और प्रातः 3 बजे जाग जाते हैं। वह नित्य क्रिया करने के बाद अपनी दिनचर्या शुरू करते हैं। योग गुरू के हरिद्धार स्थित आश्रम से आये रमेश चंद्र ने बताया कि नियम-संयम का पालन करना योग गुरू कभी नहीं भूलते हैं। घड़ी की सुइयां आगे-पीछे हो सकती है लेकिन बाबा अपने निर्धारित समयानुसार दैनिक क्रियाओं में व्यस्त रहते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें